Breaking News

इजराइल को हाइड्रॉक्सीक्लाेराेक्विन भेजने पर नेतन्याहू ने भारत को शुक्रिया कहा, मोदी बोले- दोस्तों की मदद के लिए हमेशा तैयार

भारत हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन दवा का दुनिया में प्रमुख उत्पादक और निर्यातक है। इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और नरेंद्र मोदी। (फाइल)
भारत हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन दवा का दुनिया में प्रमुख उत्पादक और निर्यातक है। इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और नरेंद्र मोदी। (फाइल)

  • नेतन्याहू ने 3 अप्रैल को कोरोनावायरस से बचाव में सहायक एंटी मलेरिया मेडिसिन क्लोरोक्विन और हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की मांग की  थी
  • 7 अप्रैल को दवा की खेप इजराइल पहुंची, यहां 10 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं और 86 लोगों की जान जा चुकी है

येरुशलम. भारत से 5 टन कार्गाे दवा भेजे जाने पर इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुक्रिया अदा किया। जवाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर लिखा है, हम मिलकर महामारी से लड़ेंगे। भारत अपने सभी मित्रों की हर संभव मदद को तैयार है। हम इजराइल के लोगों के बेहतर स्वास्थ्य की कामना के लिए प्रार्थना करते हैं। इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो भी मोदी का आभार जता चुके हैं। मेडिसिन की खेप में कोरोनावायरस संकट से निपटने में सहायक एंटी मलेरिया मेडिसिन क्लोरोक्विन और हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन हैं। इसे उपलब्ध कराने के लिए अमेरिका, ब्राजील से लेकर इजराइल तक ने भारत से मदद मांगी थी। इसके बाद मोदी ने वैश्विक महामारी को खत्म करने और मानवता के लिए इन दवाओं को उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया था।

गुरुवार शाम को नेतन्याहू ने ट्वीट किया, ‘‘क्लोरोक्विन भेजने के लिए इजराइल के सभी नागरिकों की ओर से शुक्रिया मेरे प्यारे दोस्त नरेंद्र मोदी।’’ दवाइयों से भरा विमान मंगलवार को इजराइल पहुंचा था। इजराइल ने भारत से 3 अप्रैल को क्लोरोक्विन और हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन दवा उपलब्ध कराने को कहा था। इसके बाद भारत ने मंगलवार को दवाइयों की खेप इजराइल को मुहैया करा दी। इससे पहले 13 मार्च को भी इजराइल ने मास्क और दूसरी जरूरी चिकित्सीय सहायता की मांग की थी। इजराइल में फिलहाल 10 हजार से ज्यादा कोरोनावायरस के मामले सामने आ चुके हैं। 86 लोगों की जान चुकी है। 121 मरीज वेंटिलेटर पर हैं।

हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन का प्रमुख निर्यातक है भारत

भारत इस दवा का दुनिया में प्रमुख उत्पादक और निर्यातक है।  25 मार्च को भारत ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन के निर्यात पर रोक लगाई थी, लेकिन महामारी से निपटने के लिए कई देशों के अनुरोध पर 6 अप्रैल को डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ फॉरेन ट्रेड (डीजीएफटी) ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन समेत 14 दवाईयों के निर्यात पर लगी रोक को हटाने की बात कही।

कहां से हुई इसकी शुरुआत 

क्लोरोक्विन दवा का शुरुआत में इस्तेमाल मलेरिया के लिए होता था, बाद में इसका उपयोग गठियावात और दर्द निवारक के तौर पर होने लगा। हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन उसी दवा का एडवांस वर्जन है। अब तक की जांच में यह साबित हुआ है कि यह दवा कोरोना के इलाज में कुछ हद तक कारगर है। बचाव के अलावा अभी इस बीमारी का काई और इलाज नहीं है, इसलिए यही दवा इस्तेमाल में लाई जा रही है।

About Aariz Farrukh

Check Also

डब्ल्यूएचओ प्रमुख गेब्रेयेसिएस ने अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प और चीन के राष्ट्रपति जिनपिंग को एकजुट रहने की सलाह दी। दोनों नेताओं से कहा है कि वे महामारी रोकने पर ध्यान दें। (फाइल)

पहले कोरोना पर हो रही राजनीति को क्वारैंटाइन करो, महामारी को लेकर आरोप-प्रत्यारोप आग से खेलने जैसा: डब्ल्यूएचओ प्रमुख

डब्ल्यूएचओ प्रमुख गेब्रेयेसिएस ने अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प और चीन के राष्ट्रपति जिनपिंग को एकजुट रहने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *